Friday, October 2, 2015

THE BEST SATIRE, THE HUMOROUS ICE THAT ADDS FIRE...

#Vikaas #DevelopmentAgenda #

खूबसूरत तंज भारतीय सामयिकी विकास पर … 

CAN OVERUSED SLOGAN OF MERE DEVELOPMENT FEED INDIA?


READ these beautiful sarcastic lines today that left a broad smile across my face. If I don't share it with you guys would be quite unfair. This is the best example of what role can humour play on current state of development in our country. I would be committing a cardinal sin not to post it here. It's sad that the PM is busy focusing on future plans than the immediate relief what our nation is looking up to. Doesn't he know what to do first? Is PRIORITY out of his vision ALTOGETHER ? Can nation's INFLATION be tackled with mere future promises? 



बस कर पगले ! अब और कितना विकास करेगा :-


दाल को 60 से बढ़ाकर 135 रुपये प्रति किलो कर दिया। 
प्याज को 15 से बढ़ाकर 80 रुपये प्रति किलो कर दिया। 
आते ही ट्रेनों के किराये में 14 प्रतिशत का विकास करवा दिया। 
रुपया को बढ़ाकर 58 से 68 रुपये प्रति डॉलर कर दिया। 
एक्साइज ड्यूटी 12 % से बढ़ाकर 12.5 % करवा दी। 
सर्विस टैक्स 12.36 % से बढ़ाकर 14 % करवा दिया। 
98 रू  इंटरनेट का 2 GB डेटा वाउचर 250 रू का करा दिया। 
30 पैसे प्रति मिनट लगने वाला टॉक टाइम 90 पैसे मिनट करवा दिया। 
अब इस से ज़्यादा विकास करेगा तो जान चली जाएगी। 
18 महीने में इतना विकास, अभी तो और विकास बाकि है। 
महंगाई कांग्रेस के दौर में "डायन" कहलाती थी 
मोदी राज में विकास कहलाती है। 

रिश्ता वही सोच नई !



Post a Comment