Tuesday, April 7, 2015

अच्छे दिन पांच साल बाद ...

PEEPLI LIVE फिल्म का गाना याद आने लगा होगा सबको। 

"Sakhi saiyaan toh khoob hi kamaat hai, 
 Mehangai daayan khaye jaat hai..."


मेरी ज़ुबाँ पर कोई और गीत है। … 

"सारे जहाँ से महंगा हिन्दुस्तां हमारा "

अच्छे दिन ज़रूर आएंगे मगर पहले हम कांग्रेस द्वारा खोदी गयी खाई भर लें आप लोगों के पैसों से। इतने उतावले क्यों होते हो भाई महंगाई भी कम हो जाएगी ? थोड़ा सब्र तो करो।


जनता: मगर सब्र की भी सीमा होती है प्रधान मंत्री जी ।

 सब्र की अवधि मैं आप सबको अगले चुनाव से पहले ही बता दूंगा ।

जनता: क्या !!!!

अरे घबराओ मत, दिल छोटा मत करो। सच में ये जुमला नहीं है। कहावत नहीं सुनी क्या कि सब्र का फल मीठा होता है।












Post a Comment