Friday, March 7, 2014

दंगों की आंच पर चुनावी रोटियां सेंकना तो कोई इनसे सीखे ...

Raise Your Voice
देश वासियों की सुरक्षा या अपनी वोटो की सुरक्षा 


दंगों की आंच पर चुनावी रोटियां सेंकना तो कोई हमारे राजनीतिज्ञों से सीखे।  क्या इस देश में राजनीती ठीक ऐसे ही चलती रहेगी जैसे चलती आई है ? क्या इस देश कि जनता को ऐसे ही बेवकूफ बनाया जायेगा ? या देश में परिवर्तन भी आएगा कभी ? अब होश आया ? १७ दिनों बाद ? जब दंगे हुए थे कहाँ थे सब ?








Post a Comment